सैनिक…

कोई गीत गुनगुना रहा था... कोई अपनो को याद कर रहा था... कोई खत छुपा कर आया था तो कोई वादा करके आया था... हाँ, वो जवान ही था... जो घर से कही दूर जा रहा था... नमन करता हू उनके जज्बे को... नमन करता हू उनके हौसले को... नमन करता हू उनकी शहादत को...... Continue Reading →

नज़्म 3 📝

1. उस पतंग की बादशाहत भी क्या होगी... जो एक डोर के भरोसे आसमाँ से बग़ावत करती हैं... 2. लगता है लेहरों से सीखी है उसने मोहब्बत... जो लौट के तो आती है मगर ठहरती नहीं... 3. लौट के फ़िर आया हैं एक अरसे के बाद... वहीं रास्ता, वहीं मकान, और वहीं बचपन... 4. अधूरे... Continue Reading →

हर साल, दर साल…

#2018post #salaam #happynewyear चल आज फ़िर आख़िरी सलाम लिखता हु... मैं हर साल, दर साल यहीं कोशिश करता हु... ना जानें कहां से लौट के आ जाती है ये यादें... मैं हर साल के साथ इनको भी दफ़न करता हूं... ~तरूण With love~T@ROON📝

नज़्म २ 📝

#Poetry #Hindi #SpillPoetry #Shayarana #tarunsays #heartsays 1. मैं लिखूंगा तेरे बारे में... मक़सद प्यार पाना नहीं... समझाना हैं... 2. तुझसे मुलाक़ात का ज़िक्र ही काफ़ी था... तुने रूबरू होकर सारे अरमान पुरे कर दिए... 3. जिस भीड़ से छीन के लाया था तुझे कभी... आज उसी भीड़ में खड़े होकर तुझे देखा हैं... 4. कुछ... Continue Reading →

Kaaaashh…

#kaash #zindagi #tarunsays #heartsays #spillpoetry #hindi #poetry Kaash... Kahi kuch aisa hota... Tu dur hokar bhi mere paas hota... Iss Jahan me kahi, ek apna bhi Jahan hota... Unn Sitaron ke bich, ek apna bhi Tara hota... Kaash...kahi kuch aisa hota... Kabhi koi ek raat andhera nahi hota... Sagar kisi din gehara nahi hota... Khamoshi... Continue Reading →

नज़्म…

#Poetry #Hindi #SpillPoetry #Shayarana #tarunsays #heartsays 1. गुलाबी शाम, गुलाबी आंखें, और गुलाबी हवा... मोहब्बत का एक ही रंग काफ़ी था हमारे ज़माने में... 2. चांद का गुरूर तो हम कब का छिन लेते अगर बेपर्दा कर देते उसके हुस्न को... 3. कहानियों में किरदार तो बहुत मिल जाते हैं... मगर किरदार में कोई कहानी... Continue Reading →

ye kaisi MULAKAT…

#poetry #hindi #spillpoetry #tarunsays #heartsays #mulakat Sochta tha ki ab mulakat nahin hogi...Magar un raaston ka kya kare jo teri choukhat ka pata rakhte hai... Hum toh Nazar Jhuka ke chalte hai... Magar un saason ka kya kare jo teri aahat ko pahchan leti hai... Hum toh apne makaan ko bhi beparda nahin karte...Magar un... Continue Reading →

Tu Sunn…

#hindi #spillpoetry #tarunsays #heartsays #yaarondatashan #yaariyan Tu sun, apne hi saanson ki aawaz ko... Tu sun, apne hi geeto ke aagaz ko... Tu dekh, apne hi khoye huye Aks ko... Tu likh, apne hi bikhre huye shabd ko... Sunn, Aye khuda... Ek Dost ki kahani, Ek dost ki zubaani... Ab Dosti hi hai, Meri asal... Continue Reading →

Sirf…

#sirf #fiction #poetry #hindi#spillpoetry #tum #yaadein #tarunsays #heartsays Sirf main hu tere kadmon ki aahat... Kahkar tune apnaya tha... Sirf main hu teri aankhon ka kajal kahkar tune saraha tha... Sirf main hu teri pahli barish ka Ahsas... Kahkar tune bhigaya tha... Sirf main hu teri Yaadon ka aangan... Kahkar tune Sawara tha... Na raha... Continue Reading →

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑