हर साल, दर साल…

#2018post #salaam #happynewyear चल आज फ़िर आख़िरी सलाम लिखता हु... मैं हर साल, दर साल यहीं कोशिश करता हु... ना जानें कहां से लौट के आ जाती है ये यादें... मैं हर साल के साथ इनको भी दफ़न करता हूं... ~तरूण With love~T@ROON📝

नज़्म २ 📝

#Poetry #Hindi #SpillPoetry #Shayarana #tarunsays #heartsays 1. मैं लिखूंगा तेरे बारे में... मक़सद प्यार पाना नहीं... समझाना हैं... 2. तुझसे मुलाक़ात का ज़िक्र ही काफ़ी था... तुने रूबरू होकर सारे अरमान पुरे कर दिए... 3. जिस भीड़ से छीन के लाया था तुझे कभी... आज उसी भीड़ में खड़े होकर तुझे देखा हैं... 4. कुछ... Continue Reading →

Kaaaashh…

#kaash #zindagi #tarunsays #heartsays #spillpoetry #hindi #poetry Kaash... Kahi kuch aisa hota... Tu dur hokar bhi mere paas hota... Iss Jahan me kahi, ek apna bhi Jahan hota... Unn Sitaron ke bich, ek apna bhi Tara hota... Kaash...kahi kuch aisa hota... Kabhi koi ek raat andhera nahi hota... Sagar kisi din gehara nahi hota... Khamoshi... Continue Reading →

नज़्म…

#Poetry #Hindi #SpillPoetry #Shayarana #tarunsays #heartsays 1. गुलाबी शाम, गुलाबी आंखें, और गुलाबी हवा... मोहब्बत का एक ही रंग काफ़ी था हमारे ज़माने में... 2. चांद का गुरूर तो हम कब का छिन लेते अगर बेपर्दा कर देते उसके हुस्न को... 3. कहानियों में किरदार तो बहुत मिल जाते हैं... मगर किरदार में कोई कहानी... Continue Reading →

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑