माँ…

माँ, मुझे इतना ज़रूर मालूम हैं कि...मेरी कहानी को लिखा तुने हैं...एक नेक शुरुआत के साथ...मग़र इसका अंत कहा होगा ये नहीं मालूम...और शायद तुझे भी नहीं मालूम होगा ना...अगर होगा भी तो, तू बताएगी थोड़ी ना...माँ जो हैं तू... अंत से बढ़कर अनंत तक... माँ, इस घर में तुम हो, पापा हैं, बहने भी... Continue Reading →

Family Ek Rishta!!!

Family, a small world where we grow and live together with a special bond sometimes called unconditional or conditional. It’s a dor means a thread which keep you tied up with each other. Father, a man who shields and stand like a rock to protect his family. Mother, a woman who filled our empty heart... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑