वो नया बसंत बनकर लौट आया हैं…

वो नया बसंत बनकर लौट आया हैं...चलो कोई तो हैं जो कहीं से तो लौटा हैं...बहुत सी अर्जियां करी थी... शायद उस तक ही पहुँच पायी...और वो लौट आया... हमारे पास... उससे पहले कहाँ था... नहीं मालूम... कहीं तो रहेगा ही... उसकी अपनी दुनिया रही होगी... मग़र अब वो हमारी दुनिया का एक हिस्सा बन... Continue Reading →

Innocence…

Have you ever felt the innocence? Not everyone can carry it with them. Its within you. It's the aura which can be felt only. Innocence like a child without any expectation can be loved deeply. Innocence like a flower 🌸 can be adored solely. Innocence like a moon 🌙 can be glowed brightly. Innocence like... Continue Reading →

Start a Blog at WordPress.com.

Up ↑